कमर दर्द का इलाज और घरेलु उपाय - Back Pain Treatment in Hindi

कमर में दर्द स्थाई या अस्थाई रूप से हो सकता है। अमेरिका के राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के अनुसार एक स्टडी में पाया गया कि दुनियाभर के लगभग २३% युवाओं में क्रॉनिक कमर दर्द की समस्या रहती है। 

कमर दर्द का इलाज करने के लिए कई प्रकार के घरेलू उपायों की मदद ली जा सकती है। प्राकृतिक उपचार यानी घरेलू नुस्खे कमर दर्द से राहत दिलाने में काफी हद तक सहायक हो सकते हैं। 

चलिए जानते हैं इस लेख में कि बैक पेन कैसे ठीक करें और वो कौन से घरेलू उपचार हैं जिनकी सहायता से कमर दर्द का इलाज किया जा सकता है।

कमर दर्द क्या है?

कमर दर्द, पीठ के निचले हिस्से में होने वाला दर्द है जो काफी कष्टदायक होता है। इसमें कमर में दर्द होने के अलावा अकड़न और खिंचाव भी महसूस होता है। कमर का यह दर्द शरीर के निचले हिस्से से लेकर ऊपरी हिस्से तक होता है। आमतौर पर कमर में दर्द भारी सामान उठाने से, गलत मुद्रा में लगातार बैठे या सोने से, चोट लगने से, लिगामेंट में खिंचाव होने से और डिस्क टूटने से हो सकता है।

कमर दर्द में घरेलू उपचार के फायदे

कमर दर्द में घरेलू उपचार करने से काफी फायदे देखे जा सकते हैं। कमर दर्द में घरेलू इलाज के फायदे निम्नलिखित रूप से हो सकते हैं: 

  1. कमर दर्द में दवाइयों की तुलना में घरेलू उपचार के कम साइड इफेक्ट्स देखने को मिलते हैं। 
  2. घरेलू उपाय और थेरेपी की मदद से सर्जरी करवाने की संभावना कम हो सकती है। 
  3. एक्सरसाइज और थेरेपी से कमर में लचीलापन बढ़ता है जिससे भविष्य में कमर दर्द होने की संभावना कम रहती है। 
  4. जीवनशैली सुधार के कारण कमर दर्द के साथ - साथ पूरा शरीर स्वस्थ रहता है।

कमर दर्द का घरेलू इलाज

कमर में होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए घरेलू उपचार कारगर साबित हो सकते हैं। ऐसे बहुत से प्राकृतिक उपचार हैं जिनसे इस समस्या से राहत पाई जा सकती हैI

कमर दर्द के घरेलू उपाय निम्नलिखित हैं:

ठंडी और गर्म सिकाई 

  1. ठंडी और गर्म सिकाई कमर दर्द का घरेलू उपाय होता है। यह उपचार करने में बहुत आसान है लेकिन पीठ दर्द के लिए काफी असरदार हो सकता है। 

विधि

  1. ठंडी सिकाई: सूती कपड़े या तोलिए में बर्फ के कुछ टुकड़े लपेट लें। अब इससे अपनी कमर के उस हिस्से पर सिकाई करें जहां पर दर्द की समस्या है। इस उपाय को करते समय इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी बर्फ को सीधे अपनी त्वचा के ऊपर ना लगाएं क्योंकि उससे आपकी त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। 
  2. गर्म सिकाई: गर्म पानी की बोतल लेकर उससे अपनी पीठ पर दर्द वाली जगह पर सिकाई करें। पानी अधिक गर्म न हो अन्यथा त्वचा जल सकती है। कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए गर्म सिकाई दिन में दो या तीन बार की जा सकती है। 

एसेंशियल ऑयल

  1. एसेंशियल ऑयल कमर दर्द का इलाज है क्योंकि इनमें कई प्रकार के औषधीय गुण और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। एसेंशियल ऑयल प्रबल और तेज होते हैं जिसकी वजह से त्वचा पर इन्हें सीधे लगाने से जलन हो सकती है। एसेंशियल ऑयल कई प्रकार के होते हैं जैसे कि नीलगिरी, रोजमैरी, सैंडलवुड, लैवंडर, जिंजर, पिपरमेंट इत्यादि।

विधि 

  1. एसेंशियल ऑयल को किसी कैरियर ऑयल जैसे कि जैतून या जोजोबा के तेल में मिला लें। इस मिश्रण से कमर की मालिश करें।
  2. एसेंशियल ऑयल की कुछ बूंदे पानी में मिलाकर उसे डिफ्यूजर में डाल दें। इस तरह से एसेंशियल ऑयल सांस के द्वारा शरीर के अंदर पहुंच जाएगा। 
  3. नहाते समय अगर पानी में कुछ बूंदे एसेंशियल ऑयल की डाली जाए तो उससे कमर दर्द में और सूजन में काफी राहत पहुंच सकती है।

अदरक 

  1. अदरक कमर दर्द का देसी इलाज हो सकता है। इसके अंदर जिंजरोल और जिनरोन जैसे बायो-एक्टिव रसायन पाए जाते हैं जो कि पीठ दर्द से छुटकारा दिलाने में सहायक हो सकते हैं। 

विधि

  1. एक कप पानी लेकर उसे उबलने के लिए रख दें।
  2. अब एक इंच अदरक का टुकड़ा लेकर उसे छील लें और उसे पानी में डाल दें।
  3. इसे लगभग ८-१० मिनट तक उबाल लें और फिर ठंडा कर लें।
  4. अब जरूरत के अनुसार इसमें नींबू और शहद मिलाकर सेवन करें 

हल्दी 

  1. हल्दी का इस्तेमाल कमर दर्द का रामबाण इलाज साबित हो सकता है क्योंकि इसके अंदर कई औषधीय गुण होते हैं और इसीलिए इसका इस्तेमाल प्राचीन समय से ही पारंपरिक चिकित्सा में होता रहा है। इसमें करक्यूमिन नाम का तत्व पाया जाता है जिसके अंदर एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण भरपूर मात्रा में होते हैं।‌ इसलिए कमर दर्द को काफी हद तक ठीक करने में हल्दी फायदेमंद हो सकती है। 

विधि

  1. एक गिलास दूध लेकर उसे गर्म कर लें और उसमें लगभग एक चम्मच हल्दी पाउडर डाल दें। गर्म दूध की जगह ठंडे दूध का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। 
  2. अच्छी तरह से मिलाकर रात को सोने से पहले इसका सेवन करें। ‌
  3. इसमें मिठास के लिए शहद डाला जा सकता है। 

गलांगल

  1. गलांगल कमर दर्द का देसी इलाज होता है। यह अदरक के जैसा होता है और इसके अंदर कई ऐसे एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जिसकी वजह से इसे पीठ के दर्द में प्रयोग किया जा सकता है। घर में पीठ दर्द ठीक करने के लिए इसकी चाय बनाकर सेवन की जा सकती है। 

विधि

  1. चाय बनाते समय एक छोटा सा गलांगल का टुकड़ा  कुचलकर उसमें डाल दें और उबाल लें।
  2. लगभग ३-४ मिनट तक उबालने के बाद गैस बंद कर दें और चाय को छान लें। 
  3. इस चाय में आवश्यकता के अनुसार शहद या चीनी मिलाई जा सकती है। ‌
  4. गलांगल चाय को प्रतिदिन सुबह-शाम पीने से कमर दर्द में तुरंत आराम हो सकता है।

सेंधा नमक 

  1. सेंधा नमक कमर दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।‌ इसके अंदर पोटेशियम, कैल्शियम और जिंक जैसे औषधीय गुण होते हैं जिनकी मदद से कमर दर्द को कम किया जा सकता है। 

विधि 

  1. एक बाल्टी में हल्का गुनगुना पानी भर लें। 
  2. अब लगभग २ मुट्ठी भर कर सेंधा नमक डाल दें। ‌
  3. अब सेंधा नमक मिले हुए इस पानी से नहाएं। 

लहसुन

  1. लहसुन कमर दर्द का देसी इलाज होता है क्योंकि इसके अंदर इम्यून सिस्टम को मजबूती देने की क्षमता होती है। लहसुन में एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण भी होते हैं जो कमर के सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं। कमर के दर्द को दूर करने में मदद कर सकते हैं। 

विधि

  1. किसी बर्तन में नारियल तेल लेकर उसमें ८-१० लहसुन की कलियां क्रश करके डाल दें।
  2. अब इस तेल को अच्छी तरह से गर्म होने दें और जब लहसुन ब्राउन कलर का हो जाए तो गैस बंद कर दें।
  3. जब यह हल्का गुनगुना हो जाए तो इस तेल से कमर पर मालिश करें। 
  4. यदि नियमित रूप से इस लहसुन वाले तेल से कमर पर मसाज किया जाए तो उससे कमर के दर्द में राहत पहुंच सकती है। 

आहार  

कमर के दर्द को ठीक करने के लिए स्वस्थ आहार का काफी ज्यादा महत्व होता है। इसलिए बैक पेन का इलाज करने के लिए अच्छी और पौष्टिक डाइट लेना काफी मददगार हो सकता है।  

  1. आहार में फल और सब्जियां शामिल करें। 
  2. हरी पत्तेदार सब्जियों का अधिक से अधिक सेवन करें।
  3. भोजन में फाइबर युक्त चीजें शामिल करनी चाहिएं।
  4. टमाटर, बैंगन और आलू जैसी सब्जियां खाएं।
  5. दही खाएं और इसके अलावा ग्रीन टी का सेवन करना भी कमर के दर्द के लिए कारगर साबित हो सकता है। 

शारीरिक गतिविधियां

पीठ दर्द के लिए कुछ शारीरिक गतिविधियां कारगर हो सकती हैं। स्ट्रेस दूर करने वाली थैरेपी, व्यायाम और योग करने से शरीर प्राकृतिक रुप से मजबूत बनता है। यदि नियमित व्यायाम और योग किया जाए तो यह कमर दर्द का रामबाण इलाज हो सकता है। 

  1. कमर दर्द के लिए स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज जैसे कि कोबरा पोज़, कैट-काऊ पोज़, चाइल्ड पोज़ आदि करना सहायक हो सकता है। 
  2. नियमित रूप से योग अभ्यास करें।
  3. कमर को मजबूत बनाने के लिए एरोबिक, स्विमिंग, रनिंग जैसी एक्सरसाइज करना मदद कर सकता है। 
  4. मांसपेशियों को तनाव मुक्त करने और आराम देने के लिए मसल रिलैक्सेशन थैरेपी का अभ्यास किया जा सकता है

मेडिकल उपचार 

कमर दर्द असहनीय होने पर किसी ऑर्थोपेडिक डॉक्टर से जरुर संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर कमर का निदान करते हैं और इसी अनुसार निम्नलिखित दवाईयां, थेरेपी या सर्जरी कर सकते हैं: 

  1. दवाइयां: कमर दर्द के लिए डॉक्टर कुछ दर्द निवारक दवाईयां और कुछ ओवर द काउंटर मिलने वाली दवाईयां का इस्तेमाल से कमर दर्द में आराम मिल सकता है।
  2. इंजेक्शन: कमर दर्द में घरेलू उपायों और दवाइयों से आराम न मिलने पर डॉक्टर कार्टिसोन इंजेक्शन लगा सकते हैं। 
  3. थेरेपी:  थेरेपी की मदद से कमर की गतिशीलता में सुधार होता है जिसकी वजह से दर्द में आराम पहुंच सकता है। इसलिए डॉक्टर मरीज को मसाज थेरेपी, एक्यूपंचर की राय देते हैं। कमर दर्द के लिए कुछ मुख्य थेरेपी इस प्रकार हैं: 
    1. हाइड्रोथेरेपी: पानी के उत्प्लावन बल के कारण स्विमिंग पूल में कुछ समय के लिए तैरने से कमर दर्द और रीढ़ की हड्डी का दर्द कम होता है। 
    2. फिजिकल थेरेपी: इस थेरेपी में मुख्य रूप से एयरोबिक एक्सरसाइज, लंबर एक्सरसाइज, मुद्रा को सही रखने वाली एक्सरसाइज कराई जाती हैं जिससे कमर दर्द के लक्षणों में कमी आती है।
  4. सर्जरी: जब रोगी के दर्द में दवाइयों, इंजेक्शन और थेरेपी से आराम नहीं पहुंचता तो ऐसे में डॉक्टर सर्जरी कर सकते हैं। कमर दर्द के लिए कुछ मुख्य सर्जरी इस प्रकार से हैं: 
    1. स्पाइनल फ्यूजन: इस सर्जरी में रीढ़ के हड्डी के डैमेज जोड़ों को निकालकर धातु के जोड़ों को लगा दिया जाता है।  
    2. डिस्केक्टमी: इस सर्जरी में हार्निया से प्रभावित डिस्क के हिस्से को निकाल दिया जाता है। 
    3. लैमिनेक्टोमी: इस सर्जरी में रीढ़ के हड्डी के पिछले हिस्सों को निकाला जाता है जिससे मेरुदंड ( स्पाइनल कॉर्ड) और तंत्रिकाओं के लिए पर्याप्त जगह मिल सके। 
    4. आर्टिफिशियल डिस्क:  आर्टफिशियल डिस्क धातु और प्लास्टिक से मिलकर बने होते हैं। रीढ़ की किन्ही दो हड्डियों के बीच इन आर्टिफिशियल डिस्क को लगा दिया जाता है।

शारीरिक गतिविधियां

पीठ दर्द के लिए कुछ शारीरिक गतिविधियां कारगर हो सकती हैं। स्ट्रेस दूर करने वाली थैरेपी, व्यायाम और योग करने से शरीर प्राकृतिक रुप से मजबूत बनता है। यदि नियमित व्यायाम और योग किया जाए तो यह कमर दर्द का रामबाण इलाज हो सकता है। 

  1. कमर दर्द के लिए स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज जैसे कि कोबरा पोज़, कैट-काऊ पोज़, चाइल्ड पोज़ आदि करना सहायक हो सकता है। 
  2. नियमित रूप से योग अभ्यास करें।
  3. कमर को मजबूत बनाने के लिए एरोबिक, स्विमिंग, रनिंग जैसी एक्सरसाइज करना मदद कर सकता है। 
  4. मांसपेशियों को तनाव मुक्त करने और आराम देने के लिए मसल रिलैक्सेशन थैरेपी का अभ्यास किया जा सकता है।

सारांश

इस लेख में हमने समझा कि कमर दर्द अक्सर वजन बढ़ने, गलत तरीके से सोने या बैठने, अर्थराइटिस की बीमारी होने पर होता है। कमर दर्द होने पर ऑर्थोपेडिक डॉक्टर दवाईयों के साथ कुछ घरेलू उपाय जैसे सिकाई, मसाज, हल्दी, अदरक, गलांगल आदि का सही इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। अगर दवाइयों और घरेलू उपाय से कमर दर्द का इलाज नहीं हो पाता है तो ऑर्थोपेडिक डॉक्टर सर्जरी भी कर सकते हैं। 

अगर आपके कमर में दर्द है या आर्थराइटिस से परेशान हैं तो हेक्साहेल्थ आपको ऑर्थोपेडिक डॉक्टर की सलाह लेने में मदद कर सकता है। हेक्साहेल्थ ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां ५०० से भी ज्यादा हॉस्पिटल और १५०० से भी अधिक अनुभवी डॉक्टर उपलब्ध हैं। कोई भी सर्जरी करवाने से पहले आप हमारे अनुभवी सर्जन से निशुल्क सलाह ले सकते हैं। 

अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल

पीठ के निचले हिस्से के दर्द को जल्दी कैसे ठीक करें?

पीठ के निचले हिस्से के दर्द को जल्दी ठीक करने के लिए आप सबसे पहले डॉक्टर की सलाह पर कुछ दर्द निवारक दवाइयां ले सकते हैं। दवाइयों के अलावा कुछ घरेलू उपायों की मदद ली जा सकती है जैसे हल्दी, सेंधा नमक, ठंडी और गर्म सिकाई। आराम मिलने पर किसी ऑर्थोपेडिक डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर आपके दर्द हो रही जगह का निदान करते हैं और उपयुक्त उपचार चलाते हैं।  

कमर के निचले हिस्से में दर्द क्यों होता है?

कमर के निचले हिस्से में दर्द होने के कई कारण होते हैं जैसे कि पीठ की मांसपेशियों या टेंडन में खिंचाव व चोट, गठिया, डिस्क की चोट, वजन बढ़ने के कारण और रीढ़ की हड्डी के कुछ हिस्सों में क्षति होने के कारण दर्द हो सकता है। 

कमर में दर्द हो तो कैसे सोना चाहिए?

अगर आपकी कमर में दर्द है तो आपको अपने सोने के तरीके पर ध्यान देना चाहिए और सोते समय कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे कि:

  1. पेट के बल ना सोएं, अपने हाथ को अपने सिर के नीचे रखकर ना सोएं।
  2. पीठ के बल लेटकर सोना बेहतर रहता है। ऐसी स्थान में सोते समय कमर के नीचे एक छोटा तौलिया रोल बनाकर रख लें।
  3. सोते समय फोम वाले गद्दे का प्रयोग ना करें। लगातार गद्दे पर सोने से रक्त परिसंचरण कम हो जाता है।
  4. करवट लेकर सोते समय अपने घुटनों के बीच में तकिए को रखकर सोएं।

कमर दर्द के लक्षण क्या है?

कमर दर्द के मुख्य लक्षण निम्नलिखित हैं:

  1. मांसपेशियों में हर समय खिंचाव महसूस होना 
  2. कमर के निचले हिस्से या ऊपरी हिस्से में लगातार दर्द का बने रहना 
  3. झुकते समय या फिर खड़े होते समय पीठ में दर्द रहना 
  4. शरीर में कमजोरी और कमर के आसपास सुन्नपन रहना

कमर दर्द में क्या नहीं खाना चाहिए?

कमर दर्द होने पर ऐसे खाद्य पदार्थ नहीं खाने चाहिए जिनमें सैचुरेटेड वसा और चीनी पाया जाता है। यह कमर के दर्द को ठीक करने में बाधा डाल सकते हैं। ‌इसके अलावा कमर दर्द में वनस्पति तेल, प्रोसैस्ड आहार, फुल फैट वाले डेरी प्रोडक्ट जैसे खाद्य पदार्थ लेने से बचना चाहिए।  

कमर दर्द का तेल कौन सा है?

कमर दर्द के लिए एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल कैरियर ऑयल में मिलाकर किया जाता है तो इससे काफी आराम पहुंच सकता है। इसलिए लैवंडर, जिंजर, अदरक, रोजमैरी, पिपरमेंट, चंदन एसेंशियल ऑयल को जैतून के तेल या फिर जोजोबा के तेल में मिलाकर इस्तेमाल किया जा सकता है।  इसके अलावा सरसों का या फिर नारियल का तेल भी हल्का गर्म करके उपयोग किया जा सकता है। 

कमर की मालिश कैसे करें?

  1. कमर की मालिश करने के लिए नारियल तेल या सरसों का तेल लेकर उसे हल्का गर्म कर लें। मसाज करने के लिए हर्बल तेल का इस्तेमाल भी किया जा सकता  है।
  2. मालिश के दौरान अपने हाथों का दबाव हल्का रखें और गोल गोल में घुमाते हुए मांसपेशियों की मसाज करें। ‌
  3. मसाज करते समय इस बात का ध्यान रखें कि व्यक्ति के मेरुदंड ( स्पाइन ) या हड्डी पर किसी प्रकार से अधिक दबाव ना पड़े।

कमर दर्द का दवा क्या है?

कमर दर्द होने पर ऑर्थोपेडिक कुछ दवाई लेने की सलाह देते हैं जैसे कि नेप्रोक्सीन, आइबूप्रोफेन। इसके अलावा अदरक, हल्दी, सिकाई और मसाज जैसे घरेलू उपाय भी अपनाए जा सकते हैं। 

सुबह उठते ही कमर में दर्द क्यों होता है?

सुबह उठते ही यदि आपकी कमर में दर्द होता है तो इसके मुख्य कारण हैं:

  1. सोने की मुद्रा गलत होना
  2. पेट के बल सोना 
  3. फोम वाले गद्दे पर सोना
  4. प्रेगनेंसी 
  5. डिजनरेटिव डिस्क
  6. फाइब्रोमायल्जिया 

कमर दर्द के लिए कौन सी एक्सरसाइज करनी चाहिए?

कमर में दर्द होने पर डॉक्टर आपको कुछ एक्सरसाइज करने की सलाह दे सकते हैं जो निम्नलिखित हैं: 

  1. ट्विस्टिंग पोश्चर
  2. नी-टू-चेस्ट स्ट्रेच 
  3. लोअर बैक रोटेशनल स्ट्रेच
  4. लोअर बैक फ्लैक्सिबिलिटी एक्सरसाइज
  5. ब्रिज एक्सरसाइज
  6. कैट स्ट्रेच
  7. सीटिट लोअर बैक रोटेशनल स्ट्रेच 
  8. शोल्डर ब्लेड स्क्वीज़

कमर दर्द के लिए कौन सा पॉइंट दबाए?

कमर दर्द के लिए कमर के निचले हिस्से के पॉइंट दबाएं जाते हैं जो कि बी-२३ और बी-२४ हैं। ये पॉइंट आपके शरीर के दाएं और बाएं हिस्से पर होते हैं। जब इन पॉइंट पर दबाव डाला जाता है तो इससे कमर के दर्द और गृध्रसी (साइटिका) में काफी राहत मिल सकती है। 

कमर की जकड़न कैसे दूर करें?

कमर की जकड़न को दूर करने के लिए कमर दर्द का देसी इलाज अपनाया जा सकता है जैसे कि:

  1. गर्म सिकाई।
  2. ठंडी सिकाई।
  3. मसाज थैरेपी। 
  4. व्यायाम।

क्या मसाज से कमर दर्द बढ़ सकता है?

मसाज करने से कमर में होने वाले दर्द में आराम पड़ता है। इसके लिए डीप टिशू मसाज, चिकित्सीय मसाज (थैरेप्यूटिक मसाज) का सहारा लिया जा सकता है। आमतौर पर मसाज करने पर कमर दर्द नहीं बढ़ता है लेकिन इसे अगर कोई अप्रशिक्षित व्यक्ति करता है तो दर्द कम होने की बजाय बढ़ सकता है। इसलिए कमर दर्द होने पर प्रशिक्षित व्यक्ति से ही मसाज करवाना चाहिए। 

कमर की नस ब्लॉक होने पर क्या करना चाहिए?

कमर की नस ब्लॉक होने पर उस हिस्से के अंदर सुन्नपन, झुनझुनाहट, कमजोरी और दर्द महसूस होता है। ऐसे में आपको किसी ऑर्थोपेडिक डॉक्टर के पास जाना चाहिए। ‌डॉक्टर आपको कुछ दवाइयां देते हैं। इसके अलावा डॉक्टर कुछ घरेलू उपाय की भी सलाह दे सकते हैं। घरेलू उपायों में सिकाई करना, हल्दी वाला दूध पीना इत्यादि शामिल हैं। 

About the Author

HexaHealth Care Team

सम्बंधित डॉक्टर

Dr. Jimit Choudhary

Dr. Jimit Choudhary

Anterior Segment/Cornea Ophthalmology, General Physician
31 वर्ष
97% अनुशंसित
Dr. Y.K. Batra

Dr. Y.K. Batra

Anaesthesiology, Pain Medicine
40 वर्ष
98% अनुशंसित

सम्बंधित अस्पताल

परामर्श बुक करें

उपरोक्त बटन पर क्लिक करके आप कॉलबैक प्राप्त करने के लिए सहमत हैं

नवीनतम स्वास्थ्य लेख

WhatsApp Expert Book Appointment